Sunday, December 2, 2018

सूरज की गवाही में गूंजे टकराहटों व सहमति के स्वर

संवादी-2018 : समय के साथ संघ में बदलाव की थाह परखी गई, आठ सत्रों में नए लेखन से लेकर हुई साहित्य में रिश्तों की तलाश।

from Jagran Hindi News - uttar-pradesh:lucknow-city https://ift.tt/2zEdoT7
via IFTTT

No comments: