Saturday, October 20, 2018

बदमाशों से अकेले ही भिड़ा था ये जांबाज, आज मुफलिसी में जी रहा शहीद का परिवार

वर्ष 1999 में राजभवन के सामने जांबाज जेल अधीक्षक को बदमाशों ने गोलियों से भूना था। शहीद का दर्जा देकर भूली सरकार।

from Jagran Hindi News - uttar-pradesh:lucknow-city https://ift.tt/2EzUOR6
via IFTTT

No comments: