Wednesday, September 9, 2009

रिजर्व बैंक जारी करेगा 10 रुपये के प्लास्टिक नोट

नोटों के प्रति हम भारतीयों की 'मुहब्बत' को देखते हुए भारतीय रिजर्व बैंक अब एक नया कदम उठान जा रहा है। नोटों को किसी भी हालत में मोड़-तोड़कर रखने की हमारी जिद और उसे चाय-पानी से भिगोने में भी कोई दिक्कत न महसूस करने जैसी आदतों को देखते हुए रिजर्व बैंक ने अब तय किया है कि वह प्लास्टिक के नोट जारी करेगा। इस कड़ी में पहला नंबर 10 रुपये के नोट का लगेगा। रिजर्व बैंक ने 10 रुपये के पॉलीमर बैंक नोट जारी करने की योजना बनाई है जिनका जीवनकाल सामान्य नोट का चार गुना होगा और इसकी नकल करना भी बहुत मुश्किल होगा।

भारतीय रिजर्व बैंक के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि आरबीआई ने शुरुआत में 10 रुपये के 100 करोड़ पॉलीमर नोट जारी करने का निर्णय किया है जिसके लिए बैंक ने एक अंतरराष्ट्रीय निविदा भी जारी की है। पॉलीमर नोट पेश करने की वजह के बारे में अधिकारी ने बताया कि इन नोटों का जीवन काल पांच वर्ष का होगा, जबकि सामान्य नोट का जीवनकाल एक वर्ष का होता है। इसके अलावा ये नोट कागज के नोट के मुकाबले अधिक साफ होंगे और इनकी नकल करना बहुत मुश्किल होगा। रिजर्व बैंक ने पॉलीमर नोटों के लिए जो निविदा जारी की है, उसके तहत अभिरुचि पत्र जमा करने की अंतिम तिथि 20 अक्तूबर है।

उल्लेखनीय है कि नकली नोटों की समस्या से निपटने के लिए पहली बार पॉलीमर नोट ऑस्ट्रेलिया में पेश किए गए थे। ऑस्ट्रेलिया के अलावा न्यूजीलैंड, पापुआ न्यूगिनी, रोमानिया, बरमुडा, ब्रूनेई और वियतनाम में भी पॉलीमर नोट प्रचलन में हैं। रिजर्व बैंक ने 2002 में कहा था कि अधिक मूल्य के कागज के नोटों के स्थान पर पॉलीमर-प्लास्टिक नोट जारी करने का कोई प्रस्ताव नहीं है, हालांकि नकली नोटों की बरामदी के बढ़ते मामलों को देखते हुए रिजर्व बैंक अधिक मूल्य वाले प्लास्टिक के नोट जारी करने पर विचार कर सकता है।

No comments: